किसानो की शिक्षा

Youth Leader

कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था का मुख्य स्रोत है, लेकिन जब हम आधुनिक समाज को देखते हैं तो हमारे अधिकांश किसान कई मायनों में पीछे रह जाते हैं। उनके पास अभी भी वह सम्मान नहीं है जिसके वे हकदार हैं और उन्हें कभी-कभी अछूत के रूप में देखा जाता है। इस समस्या का प्रमुख कारण शिक्षा का अभाव है। इन किसानों के बच्चों के पास उचित शिक्षा प्रणाली नहीं है जिसके कारण वे जब बड़े होते है तो अशिक्षित किसान के रूप में सामने आते हैं और सिलसिला जारी रहता है। किसानों को उचित शिक्षा दी जानी चाहिए और उन्हें वैज्ञानिक स्वभाव विकसित करने के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए। शिक्षा की कमी के कारण व्यापारियों द्वारा उनका शोषण किया जाता है जिसके कारण उन्हें अपनी फसलों का सही मूल्य नहीं मिलता है, जो अंततः वित्तीय संकट और अन्य समस्याओं का कारण बनता है।
कई किसान अभी भी कृषि क्षेत्र में तकनीकी प्रगति से अवगत नहीं हैं और खेती की पुरानी तकनीकों का पालन कर रहे हैं। भारत डिजिटल इंडिया बनता जा रहा है लेकिन ये बदलाव मुख्य रूप से शहरी इलाकों में देखे जा रहे हैं न कि ग्रामीण इलाकों में। नई तकनीकी प्रगति के लिए उर्वरकों, कीटनाशकों, मिट्टी आदि के ज्ञान की आवश्यकता है। कई किसानों को कृषि से संबंधित नए प्रकार के उत्पादों के बारे में पता नहीं है जो बाजार में आए हैं जो उनका समय बचा सकते हैं और उन्हें बेहतर उपज प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं।
शिक्षा उनके जीवन स्तर को बेहतर बनाने में मदद कर सकती है, उनके परिवार को समृद्ध बनाने में मदद कर सकती है और यहां तक कि हमारी अर्थव्यवस्था में कृषि राजस्व में भी वृद्धि कर सकती है। यह व्यापारियों के हाथों होने वाले उनके शोषण को भी रोक सकता है ताकि उन्हें सही कीमत मिल सके। शिक्षा किसानों को उनके अधिकारों के बारे में जानने में भी मदद करती है ताकि भ्रष्ट सरकारी कर्मचारी और भू-माफिया उनके साथ दुर्व्यवहार न करें। चुनाव के दौरान शिक्षा की शक्ति से उन्हें स्थानीय राजनेताओं द्वारा रिश्वत नहीं दी जा सकती है जो उन्हें शराब और कुछ पैसे वोट देकर खरीदने आते है । यह बदले में उन्हें एक उचित नेता चुनने में मदद करता है जो सभा में आवाज उठाएगा और उनके अधिकारों के लिए लड़ेगा। किसानों के शिक्षित होने के ये कुछ फायदे हैं। इसलिए हमें किसान शिक्षा को बढ़ावा देना चाहिए ताकि उन्हें भी वह जीवन जीने को मिले जिसके वे वास्तव में हकदार हैं।